Amir Khusore ki Shayari in hindi | bio of amir khusaro

by HARNEET KAUR (Ishq Kalam)
Amir Khusore ki Shayari| Biography of Amir Khusaro

Here is hindi collection of amir khusro shayari in hindi, amir khusro ki shayari with images 

 amir khusro ki shayari 

 

Amir Khusore ki Shayari| Biography of Amir Khusaro

Biography on Amir Khusaro

 अमीर खुसरो का जन्म सन् 1253 में एटा उत्तर प्रदेश के पटियाली नामक स्थान पर हुआ था। उनके   पिता का नाम तुर्क सैफुद्दीन था।और उनकी माता एक भारतीय मुसलमान थी। अमीर  खुसरो एक लाचन जाति तुर्क थे।                                                                                                             

 अमीर खुसरो देहवल , जिससे अबू हसन यमन उद-दन खुसरो के नाम से भी जाना जाता है
वह  एक भारतीय सूफी संगीतकार,कवि ,शायर और गायक थे। वह अपने जीवन काल में कुल 8
सुल्तानों का उन्होंने शासन देखा।                                                                                        

 अमीर खुसरो पहले मुसलमान शायर कवि थे। जिन्होंने हिंदी में अपनी रचनाएं की। अधिकतर अमीर       खुसरो शायरी हिंदी में लिखा करते थे और सबसे खास बात उनकी यह थी कि वह उर्दू शायरी में भी   खूब हिंदी शब्दों का उपयोग करते थे।उन्हें खड़ी बोली का अविष्कार कहा जाता है। 9 साल की उम्र में    ही  उन्होंने कविताएं पढ़ना और लिखना शुरू कर दी था। और 20 साल के होते-होते वह एक प्रसिद्ध कवि के रूप में जाने जाते थे ।वह अपनी पहेलियां और दोहे के लिए मशहूर थे।(1253-1325)

 

Amir khusro shayari

Here is hindi collection of amir khusro shayari in hindi, amir khusro ki shayari with images 

Amir khusro shayari in hindi

Amir Khusore ki Shayari| Biography of Amir Khusaro

amir khusro ki shayari 

 

 खुसरो बाजी प्रेम की मैं खेलूं पी के संग,
जीत गयी तो पिया मोरे हारी पी के संग।

 

khusaro baajee prem kee main kheloon pee ke sang,
jeet gayee to piya more haaree pee ke sang.

 

साजन ये मत जानियो तोहे बिछड़त मोहे को चैन,
दिया जलत है रात में और जिया जलत बिन रैन।

 

saajan ye mat jaaniyo tohe bichhadat mohe ko chain,
diya jalat hai raat mein aur jiya jalat bin rain.

 

अंगना तो परबत भयो,देहरी भई विदेस,
जा बाबुल घर आपने, मैं चली पिया के देस।

 

angana to parabat bhayo, deharee bhee vides,
ja baabul ghar aapane, main chalee piya ke des.

 

amir khusro ki shayari 

 

साजन ये मत जानियो तोहे बिछड़त मोहे को चैन,
दिया जलत है रात में और जिया जलत बिन रैन।

 

saajan ye mat jaaniyo tohe bichhadat mohe ko chain,
diya jalat hai raat mein aur jiya jalat bin rain.

 

रैन बिना जग दुखी और दुखी चन्द्र बिन रैन,
तुम बिन साजन मैं दुखी और दुखी दरस बिन नैंन।

 

rain bina jag dukhee aur dukhee chandr bin rain,
tum bin saajan main dukhee aur dukhee daras bin nainn.

 

आ साजन मोरे नयनन में, सो पलक ढाप तोहे दूँ,
न मैं देखूँ और न को, न तोहे देखन दूँ,

 

aa saajan more nayanan mein, so palak dhaap tohe doon,
na main dekhoon aur na ko, na tohe dekhan doon,

 

Ameer khusro shayari in hindi

 

अंगना तो परबत भयो देहरी भई विदेस,
जा बाबुल घर आपने मैं चली पिया के देस।

 

angana to parabat bhayo deharee bhee vides,
ja baabul ghar aapane main chalee piya ke des.

 

खुसरो बाजी प्रेम की मैं खेलूँ पी के संग,
जीत गयी तो पिया मोरे हारी पी के संग।

khusaro baajee prem kee main kheloon pee ke sang,
jeet gayee to piya more haaree pee ke sang.

 

अपनी छवि बनाई के मैं तो पी के पास गई,
जब छवि देखी पीहू की सो अपनी भूल गई।

 

apanee chhavi banaee ke main to pee ke paas gaee,
jab chhavi dekhee peehoo kee so apanee bhool gaee.

 

                                     khusro shayari with images

 

खुसरो पाती प्रेम की बिरला बाँचे कोय,
वेद, कुरान, पोथी पढ़े, प्रेम बिना का होय।

 

khusaro paatee prem kee birala baanche koy,
ved, kuraan, pothee padhe, prem bina ka hoy.

 

खुसरो दरिया प्रेम का, उल्टी वाकी धार,
जो उतरा सो डूब गया, जो डूबा सो पार।

 

khusaro dariya prem ka, ultee vaakee dhaar,
jo utara so doob gaya, jo dooba so paar.

 

खुसरवा दर इश्क बाजी कम जि हिन्दू जन माबाश,
कज़ बराए मुर्दा मा सोज़द जान-ए-खेस रा।

 

khusarava dar ishk baajee kam ji hindoo jan maabaash,
kaz barae murda ma sozad jaan-e-khes ra.

 

खीर पकाई जतन से, चरखा दिया जलाएं,
आया कुत्ता खा गया, तू बैठी ढोल बजा।

 

kheer pakaee jatan se, charakha diya jalaen,
aaya kutta kha gaya, too baithee dhol baja.

 

 Amir khusro shayari in hindi

 

खुसरो रैन सुहाग की, जागी पी के संग,
तन मेरो मन पियो को, दोउ भए एक रंग।

 

Khusaro rain suhag ki jagi pi ke sang,
tan mero man piyo ko dou bhaye ek rang.

 

उज्जवल बरन अधीन तन एक चित्त दो ध्यान,
देखत में तो साधु है पर निपट पाप की खान।

 

ujjaval baran adheen tan ek chitt do dhyaan,
dekhat mein to saadhu hai par nipat paap kee khaan.

 

गोरी सोवे सेज पर, मुख पर डारे केस,
चल खुसरो घर आपने, सांझ भयी चहु देस।

 

goree sove sej par, mukh par daare kes,
chal khusaro ghar aapane, saanjh bhayee chahu des. 

 

श्याम सेत गोरी लिए जनमत भई अनीत,
एक पल में फिर जात है जोगी काके मीत।

 

shyaam set goree lie janamat bhee aneet,
ek pal mein phir jaat hai jogee kaake meet.

 

खुसरो मौला के रुठते, पीर के सरने जाय,
कहे खुसरो पीर के रुठते, मौला नहिं होत सहाय।

 

khusaro maula ke ruthate, peer ke sarane jaay,
kahe khusaro peer ke ruthate, maula nahin hot sahaay.

 

amir khusro ki shayari status

 

आ साजन मोरे नयनन में, सो पलक ढाप तोहे दूँ,
न मैं देखूँ और न को, न तोहे देखन दूँ।

 

aa saajan more nayanan mein,so palak dhaap tohe doon,
na main dekhoon aur na ko, na tohe dekhan doon.

 

पंखा होकर मैं डुली, साती तेरा चाव,
मुझ जलती का जनम गयो तेरे लेखन भाव।

amir khusro shayari in hindi

 

pankha hokar main dulee, saatee tera chaav,
mujh jalatee ka janam gayo tere lekhan bhaav.

 

नदी किनारे मैं खड़ी सो पानी झिलमिल होय,
पी गोरी मैं साँवरी अब किस विध मिलना होय।

 

nadee kinaare main khadee so paanee jhilamil hoy,
pee goree main saanvaree ab kis vidh milana hoy.

 

रैनी चढ़ी रसूल की सो रंग मौला के हाथ,
जिसके कपरे रंग दिए सो धन धन वाके भाग।

 

rainee chadhee rasool kee so rang maula ke haath,
jisake kapare rang die so dhan dhan vaake bhaag.

Mirza Galib Shayari

You may also like

1 comment

Mirza Ghalib ki shayari in hindi|Biograpy of Mirza Ghalib - ishqkalam.com October 11, 2021 - 8:20 am

[…] Posts Gandhi jayanti quotes| Gandhi jayanti shayari Amir Khusore ki Shayari in hindi | bio… Mothers Day Shayari in Hindi Best Hindi Inspritional Shayari in hindi Mirza Ghalib ki shayari […]

Reply

Leave a Comment